IGNOU – HOME PAGE

समाचार

मुक्त विश्वविद्यालयों की उपाधियों को मान्यता

दूर शिक्षा परिषद (डी.ई.सी) के अध्यक्ष प्रो. एच.पी. दीक्षित ने आज बताया कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यू.जी.सी) ने डिग्रियों और डिप्लोमा के साथ-साथ विद्यार्थियों द्वारा सफलतापूर्वक पूरे किए गए पाठ्यक्रमों के लिए परंपरागत और मुक्त विश्वविद्यालयों के बीच क्रेडिटों के हस्तांतरण को मान्यता प्रदान कर दी है । यह निर्णय भविष्य को ध्यान में रखते हुए लिया गया है और इससे विद्यार्थियों को बिना किसी कठिनाई के मुक्त विश्वविद्यालय से परंपरागत विश्वविद्यालयों और परंपरागत विश्वविद्यालयों से मुक्त विश्वविद्यालयों में आने-जाने में सहायता मिलेगी ।

ALERTS


Latest
  • Walk-In interview for Blib and MLib Students at Institute of Economic Growth
  • Show Cause Notice to KSOU
  • DEP-SSA invites applications for Consultant
  • Admission Announcement for Diploma in Panchayat Level Administration and Development
  • IGNOU invites applications for temporary posts
  • IGNOU invites applications for programmes in information security
  • Programme Guide and Prospectus with application form for Admission in PG Diploma and Advanced Certificate in Information Security Programmes
  • Vacancy at Regional Centre at Regional Centre Noida
  • Brochure for Diploma in Chinese Language and Culture
  • Admission to MA Labour and Development – Last Date extended to July 15

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा हाल ही में जारी एक पत्र में यह स्पष्ट किया गया है कि भारत में मुक्त विश्वविद्यालयों द्वारा प्रदान की जाने वाली सभी डिग्रियाँ, डिप्लोमा और प्रमाणपत्र मान्य हैं ।

Profile
The vision behind IGNOU, its thrust areas, its pedagogy and major milestones since 1985
Know More
Authorities
At the helm of the University: The Visitor, the Vice-Chancellor, the Pro-VCs, Boards and Councils
Know More
Schools
Details of the 21 Schools, divided along broad subject streams, with their programmes and activities
Know More
Divisions
The enabling departments: Adminis-tration, Computer, Material Production, Evaluation and others
Know More
Institutes/Centres/Cells/Units
Centres dedicated to enhancing knowledge, skills and research base in specific domains
Know More
Regional Centres
Details of Regional Centres indicating country-wide reach
Know More
Library
Access to books, journals, periodicals and other related material of IGNOU in e-version
Know More
Study Centres
All the study centres of IGNOU, listed along with the details of the programmes available
Know More

इस संबंध में भारत के सभी मुक्त विश्वविद्यालयों को पत्र भेजा जा चुका है । देश में मुक्त विश्वविद्यालयों की स्थापना विश्वविद्यालय अनुदान आयोग अधिनियम १९५६ की धारा २ (एफ) के प्रावधानों के अनुसार संसद या राज्य विधान मंडल अधिनियम द्वारा की गई है । अतः इन विश्वविद्यालयों को यू.जी.सी. अधिनियम १९५६ की धारा २२ (1) के तहत डिग्रियाँ प्रदान करने का अधिकार प्राप्त है ।

इससे पहले यू.जी.सी. के फरवरी १९९२ के पत्र एन.एफ.आई.- ८/९२ (सी.पी.सी) के आधार पर केवल इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) द्वारा प्रदान किए जाने वाले प्रमाणपत्र, डिप्लोमा और डिग्रियों को देश के विश्वविद्यालयों द्वारा प्रदान की जाने वाले डिग्रियों के समतुल्य ही माना जाता था।

इससे संबंधित विस्तृत ब्यौरे यूजीसी वेबसाइटः www.ugc.ac.in  में उपलब्ध हैं ।


इग्नू में रोजगारोन्मुखता

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) के कुलपति प्रो. एच.पी. दीक्षित ने बताया कि सूचना प्रौद्योगिकी (आई.टी.) क्षेत्र में मौजूद कडी प्रतियोगिता के मद्देनजर विश्वविद्यालय के लिए अपने विद्यार्थियों को रोजगार प्राप्ति के लिए प्रशिक्षण देना अत्यंत महत्वपूर्ण है ।

वे विश्वविद्यालय के सूचना प्रौद्योगिकी में स्नातक कार्यक्रम (बी.आई.टी) और सूचना प्रौद्योगिकी में उच्च डिप्लोमा कार्यक्रम (ए.डी.आई.टी) के विद्यार्थियों के लिए रोजगार प्राप्ति अभिविन्यास कार्यक्रम का उद्घाटन कर रहे थे ।

उन्होंने कहा कि हमारे देश में सूचना और संचार प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में काफी तेजी से परिवर्तन हो रहे हैं । इग्नू ने कम्प्यूटर अनुप्रयोग में स्नातक (बी.सी.ए) , कम्प्यूटर अनुप्रयोग में स्नातकोत्तर उपाधि   (एम.सी.ए) , सूचना प्रौद्योगिकी में स्नातक की उपाधि (बी.आई.टी) और सूचना प्रौद्योगिकी में उच्च डिप्लोमा (ए.डी.आई.टी) जैसे विविध स्तरों के विविध कार्यक्रमों के माध्यम से आई.सी.टी अनुप्रयोग में शिक्षार्थियों के अत्यंत बडे समूह को प्रभावशाली प्रशिक्षण प्रदान करके अपना दायित्व पूरा किया है। उन्होने बताया कि बी.आई.टी कार्यक्रम, एडएक्सेल यू.के. के सहयोग से प्रदान किया जाता है और प्रायोगिक कौशलों के साथ गूढ़ और संपूर्ण व्यावहारिक ज्ञान प्रदान करता है और आई टी के घटकों के प्रमुख पहलुओं से संबंधित जानकारी प्रदान करता है।

Indira Gandhi National Open University
IGNOU logo.svg
Motto The People’s University
Type Public Central University, India
Established 1985; 37 years ago
Founder Government of India
Accreditation NAAC
Academic affiliations

The Indira Gandhi National Open University (IGNOU), established by an Act of Parliament in 1985, has continuously striven to build an inclusive knowledge

  • UGC – University Grants Commission
    Statutory body
  • AIU – Association of Indian Universities
    aiu.ac.in
  • AICTE – All India Council for Technical Education
    Indian regulatory body
  • COL -Commonwealth of Learning
    col.org
Chancellor President of India
Vice-Chancellor Nageshwar Rao
Students Cumulative enrolment of nearly 3 million
Location
Maidan Garhi
Delhi
India
IGNOU Results – Term-End
The Indira Gandhi National Open University (IGNOU), established …
Grade Card/Mark Sheet
Grade Card Status for · Enrolment No. · Programme Code …
Admission Status
INDIRA GANDHI NATIONAL OPEN UNIVERSITY KNOW …
Student Zone
The Indira Gandhi National Open University (IGNOU), established …
Regional centres 67 IGNOU is the largest Open University in the world with a total active enrolment of 4 million students. IGNOU admission is currently open for July 2022 session.
Colours Deep Sky Blue  
Website www.ignou.ac.in Indira Gandhi National Open University · Admission Information Bulletin; Helpdesk. Helpline · Sign In. Toggle navigation.

प्रो. एच.पी. दीक्षित ने इस बात पर बल दिया कि विद्यार्थियों को संप्रेषण में दक्षता हासिल करनी चाहिए तथा भविष्य के प्रति सचेत रहना चाहिए । उन्होंने प्रतिभागियों को सूचित करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय की भूमिका चिंतन प्रक्रिया को विकसित करने में प्रशिक्षण के माध्यम से शिक्षार्थियों को सशक्त करना है । उन्होंने शिक्षार्थियों को विविध क्षेत्रों में अपने ज्ञान को व्यावहारिक रूप देने की सलाह दी । उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को कंप्यूटर समर्थित रोजगारों की खोज करनी चाहिए । उन्होंने कहा, कुछ दिनों से फ्रेंच या जर्मन भाषा जानने वाले पेशेवरों की काफी कमी है जबकि ऐसे देशों में रोजगारों की भरमार है ।

इग्नू के समकुलपति एस.सी.गर्ग ने बताया कि इग्नू में रोजगार प्रदान करने संबंधी गतिविधियों के तहत सूचना प्रौद्योगिकी में स्नातक उपाधि कार्यक्रम (बी.आई.टी) के पहले पाँच विद्यार्थियों को इग्नू के आई.टी.सी संसाधन केंद्र में नौकरी उपलब्ध कराई गई है । उन्होंने बताया कि पिछले कुछ समय से इग्नू रोजगार-विवरणिका प्रकाशित कर रहा है और इससे इग्नू के पुराने विद्यार्थियों के संघ बनाने की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है ।

सम कुलपति ने बताया कि उद्योग या संस्था आधारित आई.टी. क्षेत्र में इग्नू के विद्यार्थियों ने बडी संख्या में सफलतापूर्वक रोजगार प्राप्त किया है । मुक्त और दूर शिक्षा माध्यम से बहुस्तरीय और बहुआयामी गुणवत्ता वाली शिक्षा प्रदान करने में इग्नू की छवि विश्व के सबसे बडे विश्वविद्यालयों के रूप में उभरी है । विश्वविद्यालय द्वारा २६ देशों के १८ लाख विद्यार्थियों को शिक्षा प्रदान की जा रही है । उन्होंने कहा कि उच्च गुणवत्ता वाली मुद्रित सामग्री के अलावा, शिक्षार्थियों को बहुमाध्यम सामग्री का सहयोग भी प्रदान किया जाता है । उन्होंने कहा, इस समय विश्वविद्यालय तकनीकी शिक्षा, व्यावसायिक शिक्षा, चिकित्सकीय शिक्षा और आई टी शिक्षा जैसे विभिन्न क्षेत्रों के ८०० से भी अधिक पाठ्यक्रम प्रदान कर रहा है ।


अभिविन्यास कार्यक्रम का संचालन एक दिवसीय कार्यक्रम के रूप में हुआ । इस कार्यक्रम के पूवार्द्घ मे चर्चा की गई कि अच्छा सार वृत्त और इंटरव्यू किस प्रकार तैयार किया जाता है । कार्यक्रम के उत्तरार्द्घ में विद्यार्थियों और विषय विशेषज्ञों द्वारा समूह चर्चाएँ की गईं ।

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय प्रतिवर्ष अहिंसा, एकता और विश्व शांति विषय पर 1 मार्च, १९४९ को अणुᄉात अनुष्ठा तुलसी द्वारा स्थापित अणुᄉात इंटरनेशनल द्वारा प्रदत्त निधि से व्याख्यान आयोजित करता है । अणुᄉात आंदोलन का लक्ष्य जीवन मूल्यों को व्यापक बनाना और प्रत्येक व्यक्ति अशुद्घ आचरण से स्व-सुरक्षा के लिए सशक्त बनाना है । अणुᄉात (अणु-प्रतिज्ञा) मानव की न्यूनतम सहनशक्ति को प्रदर्शित करता है । यह स्वयं को स्नेह, भाईचारा और संयम के माध्यम से परिचित कराता है ।